The Sorrow Best Quotes|Sorrow And The Pity True Line

The Sorrow Best Quotes, Sorrow And The Pity True Line, दुःख

Wishdom Quotes

दुःख ,सुख के साथ निरंतर घूमता रहता है |

दुःख को धैर्य से रहना चाहिए | उसके सामने घुटने नहीं टेकने चाहिए दुःख की तरह सुख से भी सावधानी बरतनी चाहिए |

इस संसार में लालची आँखों की प्यास कभी नहीं बुझती | जिसने भी अधिक लालच की उसे दुःख ही मिला |

जो चीज़ खो चुकी है उसकी याद दुःखदायी है | यह वह सौदा है ,जिसमें दुःख ही दुःख है | तू अपने मूल्यवान जीवन को बर्बाद मत कर | यह जिन्दगी पल-भर का खेल है |

बिना दुःख के सब सुख निस्सार ,बिना आँसू के जीवन भार |दींन दुर्बल रे यह संसार इसी से दया ,क्षमा और प्यार ||

विषयों की खोज में दुःख है | उनकी प्राप्ति होने पर तृप्ति नहीं होती, उनका वियोग होने पर शोक होना निश्चित है |

तुमअपने सुख में सुखी रहो ,मुझको दुःख पाने दो स्वतंत्र | मन की परवशता महा दुःख ,मैं यही जपूँगा महामंत्र ||

तुम मुझपर इतना हँसो कि आँसू निकले मैं समझूँगा तुम मेरा कष्ट बँटाते |

कष्ट सहने पर ही अनुभव होता है

मुझे कभी इसका दुःख नहीं हुआ कि मैं मौन क्यों रहा लेकिन इसका खेद कई बार हुआ कि मैं बोल क्यों पड़ा |

दुःख प्रेम के साथ ही निरंतर घूमता रहता है |

शिष्टता का प्रभाव दूर तक जाता है ,पर उसमें हमें कुछ भी ब्यय नहीं करना होता |

एक बात जो मैं दिन की तरह स्पष्ट देखता हूँ यह है ,कि दुःख का मुख्य कारण अज्ञान है |

आज के कष्टों का सामना करने वाले के पासआगामी कल के कष्ट आते हुए झिझकते हैं |

कितना महान है वह इन्सान !जो अपने दुःख अपने सीने में छुपाए रखता है ,और जीवन भर मुस्करा -मुस्करा कर उनसे खेलता है |

कुछ दुःख हमारे नसीब का करिश्मा होते हैं | उनसे पीछा छुड़ाने की चाहे जितनी कोशिश की जाए मगर वह साथ -साथ रहते हैं |

पानी की एक बूंद में अगर नमक मिला दिया जाए तो आँसू नहीं बनता उसके लिए तो आँखों की जरूरत होती है |

जब तक जिन्दा रहो हर एक को ख़ुशी दो ताकि लोग तुम्हारे बाद तुम्हें याद करके आँसुओं से रोएं |

वह आँसू नायाब है जो अपने अलावा किसी अजनबी के दुःख में बहा हो |

आँसू गमों को इस तरह धो देते हैं जिस तरह बरसात के बाद घास धुल जाता है |

भूलने वालों को भूल जाना ही अक्लमंदी है |

किसी को अच्छी बात बताना खामोश रहने से बेहतर है |

फूलों की महक दूर तक है ,लेकिन गम की महक सिर्फ अपने तक |

आजमाए हुए को बार -बार मत आजमाओ |

सिर्फ लिबास से इन्सान की पहचान नहीं होती क्योंकि इन्सान को बनाने वाला खुदा है और लिबास बनाने वाला दर्जी |

कितना अच्छा होता कि हम नेक बनने के लिए इस तरह कोशिश करते जिस तरह खूबसूरत बनने के लिए करते हैं |

ज्यादा दुःखी भी वही होता है जो ज्यादा मुहब्बत करने वाला हो |

सुख और दुःख को महसूस करने का भी हर एक का अपना स्तर (स्टेन्डर्ड )होता है |

अपने से कम सुविधा प्राप्त लोगों की तरफ देखने की प्रवृति जाग जाए ,तो दुनिया में कोई दुःखी नहीं रह सकता |

सच्ची ख़ुशी का एक लम्हा दुखों के हजार लम्हों पर भारी होता है |

आज तो हमें दुःखी होना ही नहीं है ,हमें दुःख देने वाले भले ही हमारे पास हर रोज़ आएँ पर हम उन सबको हँसते -हँसते कह दें कि आज तक दुःखों की बहुत खरीदी कर चुके ,पर अब दुःख खरीदी बंद कर दी है | बोलो ,करोगे यह प्रयोग

दर्द अपने हाल आगाह क्या करे ?जो सॉंस भी ले सके ,वह आह क्या करे ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *