Happy Birthday|150+Happy Birthday Wishes To All Happy Birthday Gif|images|Quotes

Happy Birthday 150+Happy Birthday Wishes To All Happy Birthday Gif images Quotes

ऊगता सूरज हर दुआ दे आपको

ऊगता सूरज हर दुआ दे आपको ,खिलता हुआ फूल महक दे आपको,हम तो कुछ देने के काबिल नहीं , देने वाला हर खुशियां दे आपको ||

आपको जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं |

यही दुआ करता हू खुदा से ,आपकी जिंदगी में कोई गम ना हो , जन्मदिन पर मिले हजारो खुशियां ,चाहे उनमें शामिल हम ना हो

Happy Birthday

खुदा से यही दुआ करते हैं कि आपकी जिंदगी में कोई गम ना हो जन्मदिन पर मिले जहान की खुशियां भले उसमें शामिल हम ना हो

जन्मदिन की बधाई

“असम्भव “शब्द केवल मूर्खों के शब्द -कोश में पाया जाता है |

नेपोलियन

शरीर से किसी को पीड़ित मत करो |

यजुर्वेद

मेरी यह प्रबलता कामना है कि हर आँसू पोछ सकूँ |

महात्मा गाँधी

सोई हुई शक्ति प्रार्थना से जाग उठती है |

विवेकानन्द

सब धोखों से खराब अपने आपको धोखा देना है |

प्रेमचंद

आलस्य ,रोग ,जन्मभूमि का मोह,असंतोष और भावुकता -ये बातें प्रगति में बाधक हैं |

हितोपदेश

मैं बगुले को तीर का निशाना बनाने की बजाय उसे उड़ते देखना चाहता हूँ और किसी बुलबुल को मारने की बजाय उसे गाते सुनना चाहता हूँ |

शेख सादी

अहिंसा परम धर्म है , अहिंसा परम ज्ञान है और अहिंसा ही परम पद है |

श्री मदभागवद

अहिंसा की भावना से अनुप्राणित रहकर ही प्राणियों पर अनुशासन करना चहिए |

मनुस्मृति

अनेक को जो एक रखती है, भेदों में से अभेद ढूंढती है,वही अहिंसा है |

विनोबा भावे

अहिंसा की पूर्ण स्थिति होने पर उसके सान्निध्य में सब प्राणी निर्वेर हो जाते हैं |

योगदर्शन

अहिंसा वास्तविक शक्ति का प्रतीक है | किसी भी प्रकार से कष्ट नहीं पहुँचाना ही अहिंसा है |

राधाकृष्णन

सात सागरों के जल की अपेक्षा मानव के नेत्रों से कहीं अधिक आँसू बह चुके हैं |

गौतम बुद्ध

तुम्हें बन्धु -मित्र चाहिए तो ईश्वर ही काफी है , संगी -साथी चाहिए ,तो विधाता ही काफी है , मान -प्रतिष्ठा चाहिए ,तो दुनिया ही काफी है ,उपदेश चाहिए ,तो मौत की याद ही काफी है , सांत्वना और शांति चाहिए ,तो बोध -वाक्य ,सूक्तियों की पुस्तक ही काफी है | अगर मेरा यह कहना गले नहीं उतरता हो ,तो फिर तेरे लिए नरक ही काफी है |

हातिम हासम

जलने में पुरानी लकड़ी और पीने वाले के लिए पुरानी शराब सबसे अच्छी होती है | विश्वसनीय व्यक्तियों में पुराने मित्र और पठनीय पुस्तकों में बोध -वाक्य ,सुभाषित और प्राचीन ग्रंथ सर्वोत्तम हैं |

बेकन

राष्ट्र की सुरक्षा का सबसे सस्ता शस्त्र है अच्छी पुस्तकें |

बर्क

जो व्यक्ति किसी भी आयु में सीखना और अच्छी पुस्तकों पढ़ना बन्द कर देता है , वह जल्दी बूढ़ा हो जाता है , जबकि सदा ,निरन्तर सीखने वाला और अच्छी पुस्तकों पढ़ने वाला न केवल जवान रहता है , वरन अधिक मूलयवान हो जाता है |

रामलाल

बोध -वाक्य ,सुभाषित विनम्रता सिखाते हैं ; विनम्रता से योग्यता आती है ; योग्यता से धन और धर्म प्राप्त होता है | धर्म से दूसरों के प्रति उपकार करने की प्रवृति होती है और इसी से सुख की प्राप्ति होती है |

संसार रूपी वट -वृक्षा में अमृत के समान दो फल हैं | 1 .सुभाषित का रसास्वादन और 2 .सज्जनों की संगति |

अमन और खुशहाली के समय में भी हमें आराम में आकर अपनी सुरक्षा -व्यवस्था को कभी -भी कमजोर नहीं होने देना चाहिए |

डा. मालती शर्मा

अच्छे काम में सहयोग , बुरे काम में असहयोग का सिद्धान्त सब को याद रखना चाहिए |

डा. मालती शर्मा

आकाश का भूषण सूर्य हैं ; कमल -वन का भूषण है ;वाणी का भूषण सत्य है ; सम्पन्नता का भूषण दान है ; मन का भूषण मित्रता है मधुमास का भूषण कामदेव है ; सभा का भूषण सूक्ति है और समस्त गुणों का भूषण विनय है |

भर्तृहरि

विश्वास जीवन है ,संशय मृत्यु है |

रामकृष्ण परमहंस

लक्ष्य को सदैव सामने रखो ,सफलता का यही रहस्य है|

जिस प्रकार सोने की परीक्षा घिसने ,काटने ,तपाने और पीटने से की जाती है उसी प्रकार मनुष्य भी अपने ज्ञान ,शील ,गुण और कर्म से जाना जाता है |

चाणक्य

अपने ही झूठ के पत्थर से टकराकर जब कोई लड़खड़ाता है , तो सँभलना मुश्किल हो जाता है |

जुआ लोभ का पुत्र ,दुराचार का भाई और बुराइयों का पिता है |

और चाहे तुम किसी को मत रोको ,मगर पहले अपनी जुबान को लगाम दो ,क्योंकि बेलगाम जुबान दुःख देती है |

किसी राज्य को चलाने के लिए अच्छे कानूनों की उतनी आवश्यकता नहीं होती जितनी कि अच्छे अधिकारियों की |

किसी के गुणों की प्रशंसा करने में अपना समय नष्ट न करो | उसके गुणों को अपनाने का प्रत्यन करो |

दूसरों को गिराने की कोशिश में तुम स्वंम गिर सकते हो

मध्यपान आदि नशों से भी अधिक बुरा नशा, सत्ता और प्रभुता पाने का है , इससे नीचे गिरे बिना व्यक्ति होश में नहीं आता |

एक सेर विद्धता को अमल में लाने के लिए दस सेर सहज बुद्धि की आवश्यकता होती है |

किसी की अधिक प्रशंसा करना उसे धोखा देना है |

कष्ट हृदय जो कसौटी है और तपस्या अग्नि है |

छोटा ऋण कर्जदार बनता है और बड़ा ऋण शत्रु |

जो जीवों की हिंसा करता है ,वह आर्य नहीं होता ,सभी जीवों के प्रति अहिंसा का भाव रखने वाला ही आर्य कहलाता है |

दूसरों को सैकड़ों बातें कहने वाला खुद एक बात भी बर्दाश्त नहीं करता |

दोस्त हो तो ऐसा ,जिसके बारे में बातें करते हुए हमें फख्र हो या कम से कम शर्मिन्दगी न हो |

वक्त को हर हाल में गुजरना ही है और वह गुजर भी जाता है ,चाहे वह अच्छा हो या बुरा |

खुदा मेहरबान हो तो वक्त भी मेहरबान हो जाता है ,लिहाजा हर वक्त खुदा को याद रखो |

हालत के साथ -साथ कभी -कभी वक्त भी इन्सान को मजबूर बना देता हैं और ऐसे वक्त में वक्त बिताने वाली घड़ी भी छिन जाती है |

कोई चीज इतनी नुकसानदेह नहीं होती जितना वक्त जाया करना ,बाद में होता यह है कि वक्त भी आपको जाया कर देता है |

अगर वक्त की कद्र करोगे तो वक्त भी तुम्हें इज्जत और शोहरत देगा वरना ठीक इसका उलटा होगा |

अगर आप को जिन्दगी से प्यार है तो वक्त से प्यार करें | वक्त से नफरत का मतलब जिन्दगी से नफरत है |

वक्त का एक जर्रा भी सोने चाँदी के खजाने से कीमती है | अभी भी वक्त है कि वक्त न गंवाए |

कोई भी काम मुश्किल नहीं अगर सब्र (धैर्य ) से किया जाए |

हर दुख और मुश्किल से जो जंग करता है , वही कामयाब होता है |

दौलत से गद्दे बिस्तर खरीदे जा सकते हैं ,नींद नहीं |

दौलत ज़िन्दगी छीन तो सकती है ,दे नहीं सकती |

समझदार इन्सान ही दूसरों को समझता है |

जो बात तुम जबान से कहो उसी के मुताबिक करो भी |

सिर्फ भले न बनो ,खुद भलाई भी करो |

सच कड़वा जरूर है ,लेकिन उससे जिन्दगी संवर जाती है |

तजुर्बे लोगों से मिलने के बाद ही होंगे |

वे ही कामयाब होते हैं जिन्हें यकीन होता है |

सख्त मेहनत का मतलब है ,मन्जिल से नजदीकी |

जिंदगी क्या है ,अमल में डूबी हुई सोच |

अपनी ताकत से बढ़कर अपने आप पर बोझ न डालो | ऐसा न हो कि इस तरह तुम हिम्मत हार जाओ |

जिसने झूठी कसम खाई ,जैसे उसने अपने घर को वीरान कर दिया |

बेवकूफ के लिए चुप रहना भी बड़ी अक्लमन्दी है लेकिन इतनी बात वह समझ जाए तो बेवकूफ नहीं हो सकता |

बुराइयों का एहसास कामयाबी की कुन्जी है |

अपने ज़मीर की आवाज को हमेशा बुलन्द रखो |

खुदा का शुक्र अदा करने से रोज़ी में बरकत होती है |

जिस आदमी को कर्ज लेने और दूसरों की खुशामद की जरूरत नहीं वह बड़ा मालदार है |

अपने किसी भाई की मुसीबत पर ख़ुशी का इजहार न करो | हो सकता है उल्लाह तआला उसको उस मुसीबत से निजात देकर तुम्हें उसमें मुबतिला कर दे |

दिल एक आईना है अगर वह बुराई से पाक है तो उसमें खुदा नजर आता है |

माँ की गोद का मुकाबला दुनिया की बड़ी से बड़ी दरगाह भी नहीं कर सकती |

माँ अपनी औलाद के लिए बाप से ज्यादा मुहब्बत करने वाली होती है|

माँ की नाराजगी औलाद के लिए तबाही है |

इन्सान पहाड़ से गिरकर खड़ा हो सकता है |मगर अपनी नजरों से गिरकर खड़ा होना उसके बस की बात नहीं |

मुसीबत से मत घबराओ क्योकि सितारे अन्धेरे में ही चमकते हैं |

दुनिया अक्लमन्द की मौत पर और जाहिल की जिन्दगी पर हमेशा आँसू बहाती है |

शेर पर काबू पाने वाला बड़ा नहीं ,बड़ा वह है जिसने अपनी जबान और गुस्से को काबू में रखा |

एक इन्सान ही खुदा का नाशुका है वरना हर मुर्ग एक दाने के लिए जमीन पर सर झुकाता है |

खुलूस के फूल निछावर करते रहोगे तो नफरत के काँटों की चुभन से महफूज रहोगे |

किसी का दुखा हुआ दिल भरे हुए गिलास की तरह है जो जरा सी लरजिश से छलक जाता है |

सबसे बड़ी दौलत मेहनत है चाहे उसके लिए गरीबी की जिन्दगी ही क्यों न भुगतना पड़े |

कितने लोग हैं जो समन्दर की तरह बोलते हैं मगर उनकी सोच गन्दे तालाबों की तरह सीमित हैं |

न गिरना कमाल नहीं ,कमाल यह है कि तुम गिरो और फिर नए सिरे से खड़े हो जाओ |

पहली नाकामी से मत घबराओ क्योकि यह तुम्हारी नाकामी नहीं बल्कि कामयाबी की पहली सीढ़ी है |

सब कुछ खोने के बाद आपके अंदर हौसला बाकी है तो समझ लें कि आपने कुछ नहीं खोया |

दुनिया में ऐसा कोई पेड़ नहीं जिसको हवा न लगी हो और ऐसा कोई दिल नहीं जिसने चोट न खाई हो |

कुरान एक ऐसा आइना है जिससे हम अगली दुनिया को देख सकते हैं |

इतना मत सोचो कि वक्त गुजर जाए और तुम सोचते रह जाओ |

अध्ययन ,दुःख और उदासी का बेहतरीन इलाज है |

बेवकूफ के साथ स्वर्ग में बैठने से अलकमंद के साथ नरक में बैठना बेहतर है |

मनुष्य का सबसे अच्छा मित्र उसकी दस अंगुलियाँ हैं |

सीमित इच्छा सर्वोच्च परिणाम पर ले जाती है |

निराशा मूर्खता का परिणाम है |

याद रखो जीत ताकत की नहीं सच्चाई की होती है |

गुनाह की शुरुवात मकड़ी के जाल की तरह नाजुक होती है , लेकिन अन्जाम जहाज के रस्से की तरह मजबूत होता है |

न तो अच्छी जिन्दगी से मुहब्बत करो न नफरत ,लेकिन तुम जो जिन्दगी बसर कर रहे हो ,उसे अच्छी तरह बसर करो |

किसी को नुकसान पहुँचाना खुद नुकसान उठाने से भी बुरा है |

सच्ची बात को गौर से सुनो ,चाहे कहने वाला कोई भी हो |

जितनी पकड़ उतना दुःख ,जितना त्याग उतना सुख |

कभी सोचिए कि स्वयं को बदलना कितना कठिन है ?फिर दूसरे को बदलना कैसे सरल हो सकता है ?

जो व्यक्ति आपके सामने दूसरे से झूठ बोल रहा है ,जरूरत पड़ने पर वह व्यक्ति आपसे भी झूठ बोल सकता है |

कान की शोभा श्र्वण से है ,कुण्डल से नहीं | हाथ की शोभा दान से है ,कंगन से नहीं | मानव शरीर की शोभा परोपकार से है ,श्र्रंगार से नहीं |

अपने सुधार के बिना परिस्थितियाँ नहीं सुधर सकती | अपनी दृष्टिकोण बदले जीवन की गतिविधियां नहीं बदली जा सकती हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *